हज़रत अली कोट्स

हज़रत अली कोट्स | हजरत अली रदिअल्लहु अन्हु | hazrat ali quotes | हज़रत अली की नसीहते |  Hazrat Ali | हज़रत अली की बाते | शेरे खुदा हजरत अली | हज़रत अली अलैहिस्सलाम की नसीहते | Hazrat Ali R.A.

हज़रत अली कोट्स

हज़रत अली कोट्स 

1. अक्लमंद अपने आप को निचा रखकर बुलंदी हासिल करता है और नादान अपने आपको बड़ा समझकर जिल्लत उठता है 

२. कम खाने में सेहत है , कम बोलने में समझदारी है और कम सोना इबादत है 

3. मुश्किल्तारिन काम बेहतरीन लोगो के हिस्से में आते है ,क्यूंकि वो उसे हल करने की सलाहियत रखते है 

4. जहा तक हो सके लालच से बचो लालच में जिल्लत ही जिल्लत है 

5. जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाज़ा न कर सके उसके सामने

जुबान से इज़हार करना सिर्फ लफ्जों को बर्बाद करना है

6. जिसकी अमीरी उसके लिबास में हो वो हमेशा फकीर रहेगा और जिसकी अमीरी उसके दिल में हो 

वो हमेशा सखी रहेगा 

7. हमेशा उस इन्सान के करीब रहो जो तुम्हे खुश रखे लेकिन उस इन्सान के और

भी करीब रहो जो तुम्हारे बगैर खुश न रह पाए 

8. खुबसुरत इन्सान से मोहब्बत नहीं होती बल्कि जिस इन्सान से मोहब्बत होती है वो खुबसुरत लगने लगता है 

Hazrat Ali Quotes In Hindi 

9. दौलत को कदमो की ख़ाक बनाकर रखो क्यूंकि जब ख़ाक सर पर लगती है कब्र कहलाती है 

10. झूठ बोलकर जितने से बेहतर है सच बोलकर हार जाओ 

11. जब तुम्हारी मुखालफत हद से बढने लगे , तो समझ लो की अल्लाह तुम्हे कोई मुकाम देने वाला है 

12. इल्म की वजह से दोस्तों में इजाफा होता है दौलत की वजह से दुश्मनों में इजाफा होता है 

13. अगर किसी के बारे में जानना चाहते हो तो पता करो की वह शख्स किसके साथ उठता बेठता है 

14. राज्य का खज़ाना और सुविधाए मेरे और मेरे परिवार के लिए नहीं है, मै बीएस इनका रखवाला हु 

15. किसी का एब तलाश करने वाले की मिसाल उस मक्खी के जेसी है जो

सारा खुबसुरत जिस्म छोड़ सिर्फ जख्म पर बैठती है 

16. जिसको तुमसे  सच्ची मुहब्बत होगी वही तुमको बुरे और नाजायज़ कामो से रोकेगा 

17. जब मेरा जी चाहता है के में अपने रब से बात करू तो मै नमाज़ पढ़ता हु 

18. किसी की आँख तुम्हारी वजह से नम न हो क्यूंकि तुम्हे उसके हर एक आंसू का क़र्ज़ चुकाना है 

हज़रत अली कोट्स 

19. कभी तुम दुसरे के लिए दुआ दिलसे दुआ मांगकर तो देखो तुम्हे अपने लिए मांगने की जरूरत नहीं पड़ेगी 

20. जो इन्सान सजदो में रोता है उसे तकदीर पर रोना नहीं पड़ता 

२१. गरीब वो है जिसका कोई दोस्त न हो 

२२. रिजक के पीछे कभी अपना ईमान मत खराब करो क्योंकि नसीब का रिजक इंसान को ऐसे 

तलाशता है जेसे मरने वाले को मौत 

२३. इंसान का अपने दुश्मन से इन्तेकाम का सबसे अच्छा तरीका ये हे की वो अपनी खूबियों में

इजाफा कर दे 

२४. इंसान की जुबान उसकी अक्ल का पता देती है और आदमी अपनी जुबान के निचे छिपा होता है 

२५. दोस्तों के गम में शामिल हुआ करो हर हाल में लेकिन, खुशियों में तब तक न जाना जब तक वो खुद न बुलाये 

२६. इख्तियार, ताकत, और दौलत एसी चीज़े है जिनके मिलने से लोग बदलते नहीं बेनकाब होते है 

हज़रत अली की बाते

अल्लामा इक्बाल की शायरी

Leave a Comment